Tuesday, February 14, 2017

सिर्फ ये दिन नहीं हर पल हर दिन तुम्हारा.......



खुशिया सिमट के आ जाती है पुरे जहांन की
 जब सिमट के आ जाती हो तुम बांहो में
 तुम्हारी सांसे मेरी सांसो से मिल के
मजबूत कर देती है धडकनो को मेरी
हर पल हर जन्म तुम्ही हो कायनात मेरी
गुजारिश है हर वक्त उस परवर दिगार से

__Infinity