Tuesday, May 5, 2015

कोई लिख देता है चलते रुकते कही कभी वक्त हमारे जैसे किसी और का भी है ...


कोई लिख देता है चलते रुकते कही कभी 
वक्त हमारे जैसे किसी और का भी है ...