Saturday, April 4, 2015

इतने मुद्दे न होते दरमियान हमारे






काश तुम आंखो की बोली समझ पाते
इतने मुद्दे न होते दरमियान हमारे ॥
--Infinity